Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

जानिए: (टीबी) TB ke lakshan in hindi 2020

Hello dosto aaj me aap logo ko tb ke lakshan in hindi ke bare me bataoga tb se hone par kya fark dikta hai tb ke lakshan ke bare me full details bataoga.

Agar yah jankri aap logo ko pasand aaye to ise share kare or comment kar ke bataye ki apko yah jankari kesi lagi

tb-ke-lakshan

- टी बी का फुल फॉर्म kya hai (TB Full Form) -

Tb ka full from in hindi

Har insan ke man me yah sabal to aata hi hai ki tb ka pura nam ya full from kya hai.TB ka pura nam "tubercle bacillus" hai. टी बी ka हिन्दी me pura nam "क्षयरोग या तपेदिक या यक्ष्मा" hai.tb full form in medical.

- टीबी होने का क्या कारण है? (Cause of TB) -


Tb ke karan in hindi

यह एक ऐसी बीमारी है, जो धीरे-धीरे बढ़ती है। साधारणतया लोग तपेदिक के नाम से भयभीत हो जाते हैं। इस रोग के कीटाणु विरामचिह्न के आकार के होते हैं।tv ke lakshan in hindi,tb ke lakshan in hindi.

 ये रोगाणु रोग लगे व्यक्तियों के खांसने, थूकने, छींकने तथा पूरा मुंह खोलकर बोलने से दूसरे लोगों को लग जाते हैं। यह उस धूल में भी पाए जाते हैं, जिसमें रोगी की लार, श्लेष्मा, नाक, थूक आदि मिली रहती है।

- सेबफल खाने ‌के 15 बेहतरीन फायदे apple benefits in hindi 2020

 संक्रमित पानी तथा भोजन से ये मानव शरीर में प्रवेश कर जाते हैं। कुछ बीमार दुधारू पशुओं का दूध पीने से भी तपेदिक के रोगाणु व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर जाते हैं।

कई बार यह रोग वंशपरंपरागत भी हो जाता है। अपौष्टिक भोजन, अधिक मेहनत, धूम्रपान, शराब पीने तथा अधिक मैथुन से भी यह रोग हो जाता है।tb rog ke lakshan,tb ke lakshan hindi me.

- टीबी के लक्षण क्या हैं ? (symptoms of TB) -


Tb ke lakshan in hindi

Tb ke lakshan खांसी आना,पसीना आना,बुखार रहना,थकावट होना,वजन घटना,सांस लेने में परेशानी,भूख में कमी होना yah sab tb ke lakshan hai.

1:- खांसी आना-


Tb hone par bahut jyada khansi aati hai.suru suru me to sukhi khansi aati hai lekin bad me khansi ke sath khun bi aane lag jata hai.agar 2 hafte ya 15 din se jyada khansi aaye to doctor se tb ki janch karba le.

- Khansi ka ilaj,kaaran or lakshan खाँसी का इलाज, कारण और लक्षण

2:- पसीना आना-


Bahut jyada pasina aana tb ke lakshan hai.tb ho jane par pasina bahut aata hai rat ko sote samy bi bahut pasina aata hai balai mousam kaisa bi ho tb ke pesent ko pasina aata hi hai.tand ke mousam me bi pasina aata hai.टीबी रोग के लक्षण.

3:- बुखार रहना-


Tb hone par bhukar aata hai suru suru me to bhukar kam rahta hai  lekin jese jese samy jyda hote rahta hai.bhukar bi badte jata hai.

- Kya hai chamki bukhar ke lakshan karan or ilaj ke bare mein 2020

4:- थकावट होना-


Tb hone par thakavat bahut jaldi aa jati hai tb ke pesent ko toda sa kam karne par hi bahut jyada thakavat hine lagti hai.jiske karan uski takat kam hone lag jati hai.isliye tb ke pesent ko km kam karne ko kaha jata hai.

5:- वजन घटना-


Tb hone par tb ke pesent ka lagatar bajan(weight) kam ya loss hone lag jata hai.tb ke pesent se khana bi achhe se nhi khabata hai.

- How to gain weight :- वजन बढ़ाने के १०बेहतरीन तरीके l


tuberculosis-in-hindi


6:- सांस लेने में परेशानी-


Tb ke pesent ko sans lene me bahut presani hoti hai kyoki tb hone par khansi aane lag jati hai.jisse sans fulne lag jati hai or sans lene me presani ya dikkt hoti hai.

मुनक्का ke बीज khane के fayde‌ नुकसान in hindi

7:- भूख में कमी होना-


Tb ke pesent ki khane me kami aane lagti hai.kyoki tb hone par tb ke pesent ko khane me intreste(रूचि) nhi rahti hai.jiske karan uske bhuk me kami aati hai or bajan bi kam hone lag jata hai.tb ka ilaj.


- टीबी की गांठ के लक्षण क्या हैं ?(Symptoms of tuberculosis) -


यह जिस अंग में होती है, वहां सूजन या दर्द, हल्का बुखार, रात में पसीना आता है, भूख नहीं लगती है। अगर एक्स्ट्रा पल्मोनरी टीबी फेफड़े में हो जाए तो वहां भी पानी भर जाता है।

 यह जिस अंग में होती है वहां गांठ बन जाती है। गांठ से पानी निकाल कर जांच की जाती है या संबंधित अंग की सीटी स्कैन कराया जाता है।tb hone ke lakshan,tb ke lakshan aur upay.

- टीबी कितने प्रकार की होती है?  Types of T.B) -

Types of tb in hindi...

Tb bese to kai प्रकार ki hoti hai lekin me aaj kuch tb ke bare me bataoga.
बोन टीबी,बच्चों में टीबी,दिमाग की टीबी,गले की टीबी or bi bahut se टीबी के प्रकार hote hai.tb in hindi.

- बोन टीबी के लक्षण क्या हैं?(Symptoms of bone TB) -

Bon tb ke lakshan in hindi

रीढ़ की हड्डी में टीबी होने के शुरुआती लक्षण कमर में दर्द रहना, बुखार, वजन कम होना, कमजोरी या फिर उल्टी है।

 इन परेशानियों को लोग अन्य बीमारियों से जोड़ कर देखते हैं, लेकिन रीढ़ की हड्डी में टीबी जैसी गंभीर बीमारी का संदेह बिल्कुल नहीं होता.bone tb symptoms in hindi,tb treatment side effects in hindi.

- दूध पीने के जबरदस्त 38 फायदे 2020 in hindi.

- बच्चों में टीबी के लक्षण क्या हैं?(Symptoms of TB in children) -


1:- ग्रोथ रूकना बच्चे अपनी उम्र के अनुसार बढ़ते हैं, लेकिन कई बच्चों का शरीर कमज़ोर होता जाता है जिससे उनकी ग्रोथ रूक जाती है.

2:-:- गले की नसों में सूजन ...

3:- ठंड लगना ...

4:- छाती में दर्द ...

5:- बड़ों जैसे लक्षण

- दिमाग की टीबी के लक्षण क्या हैं?(Symptoms of brain TB) -

Dimag ki tb  ke lakshan in hindi

तेज सिरदर्द, गर्दन में झटका, धुंधला दिखाई देने के साथ थकान, उल्टी या असमंजस की स्थिति बने तो ये लक्षण दिमाग में टीबी के हो सकते हैं.tb symptoms in hindi,brain tb in hindi.

- गले की टीबी के लक्षण  क्या हैं?(Symptoms of throat TB) -

Gale me tb me tb ke lakshan in hindi

Gale ki tb ho to sabse phle bahut tej or sukhi khansi chalti hai.agar apko cancer bi hai to muh se khun aane lag jata hai.sans lene me bahut dikkt hoti hai.gala dard hone laga jata hai bolne me presani ya dikkt  hoti hai.टीबी के लक्षण.

- टीबी का घरेलू उपचार कैसे करें? (Home remedies for TB) -


Tb ka upchar in hindi..

1:- 100 ग्राम मक्खन लेकर उसमें 25 ग्राम शुद्ध शहद मिलाकर roj सुबह के समय सेवन करें। शहद व मक्खन शरीर के क्षय को रोकते हैं।
लौंग का चूर्ण शहद में मिलाकर भोजन के बाद चाटें।tuberculosis in hindi,tb disease details in hindi.

2:- लहसुन के रस के साथ आधा चम्मच शहद मिलाकर चाटें तथा लहसुन के रस को सूंघें। यह रस फेफड़ों को मजबूत करता है।
फेफड़ों को शक्ति पहुंचाने के लिए कच्चा नारियल खाना चाहिए।

- Gajar ke बेहतरीन 13 fayde in hindi 2020

3:- एक पाव दूध में 5 पीपल डालकर उबालें। फिर इस दूध को सुबह-शाम के समय पिएं।

4:- कच्ची लौकी को कद्दूकस में कस लें। फिर इसे एक उबाल देकर इसमें शक्कर मिलाकर खाएं।
बेर को कुचलकर पानी में उबालें। फिर शक्कर डालकर इसका सेवन करें।टीबी में खानपान,टी बी का उपचार.

5:- 50 ग्राम अखरोट की गिरी और 3 पूतियां लहसुन की छीलकर, दोनों को पीस लें। फिर इसे देसी घी में भूनकर खाएं।

tb-symptoms-in-hindi

6:- केले के तने का रस निकालकर तथा छानकर एक कप तैयार कर लें। फिर इसे roj सेवन करें। लगभग 40 दिन तक बराबर सेवन करने से टी.बी. का रोग जाता रहता है।

7:- पीपल की गुलड़ियों (फलों) को सुखाकर पीस लें। फिर इस चूर्ण की 8 ग्राम मात्रा प्रतिदिन ताजे दूध के साथ सेवन करें।

8:- लहसुन की दो-तीन कलियां सुबह को कच्ची चबा जाएं। एक माह में टी.बी. जैसा रोग खत्म हो जाएगा।

9:- टी.बी. के साथ यदि ज्वर रहता है, तो तुलसी की 4 पत्तियां, चुटकी भर नमक, आधा चम्मच जीरा, एक चम्मच सोंठ। सबको एक कप पानी में उबालकर उसकी चाय बनाकर पिएं।

10:- TB रोगियों के लिए अंगूर रामबाण औषधि है। Roj 100-200 ग्राम अंगूरों का सेवन करें।

11:- मुनक्के के 4 दाने, 4 पीपल, 10 ग्राम खांड़। इन सबको पीसकर चटनी बना लें। इसका सेवन सुबह-शाम के समय करें।

12:- गुलाब के फूलों को सुखाकर, उसमें गुड़ मिलाकर 5 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करें।

13:- बकरी के दूध में आधा चम्मच सोंठ डालकर गर्म करें। दिन भर में आधा लीटर पिएं।

14:- 4-5 लहसुन की कलियों को दूध में उबालें। फिर दूध को छानकर पिएं।

15:- 10-15 ग्राम मछली का तेल (काड लिवर आइल) दूध में डालकर roj पिएं।

16:- Pisa हुआ 25 ग्राम कच्चा नारियल, लहसुन की चटनी 6 ग्राम तथा बकरी का दूध 250 ग्राम, तीनों का हलवा बनाकर खाएं।

17:- 200 ग्राम बेल की गिरी पानी में पकाएं। पानी जब 50 ग्राम रह जाए, तो उसमें कच्ची खांड़ डालकर सेवन करें।

18:- दूध के साथ गुलकंद खाएं।

19:- सेब का मुरब्बा roj सेवन करें।


- टीबी का आयुर्वेदिक उपचार कैसे करें ?(Ayurvedic treatment of TB) -

Tb ka upchar in hindi

1:- पीपल 5 ग्राम, पीपलामूल 5 ग्राम, धनिया 4 ग्राम, अजमोद 5 ग्राम, अनारदाना 50 ग्राम, मिसरी 25 ग्राम, काली मिर्च 5 ग्राम, बंशलोचन 2 ग्राम, दालचीनी 2 ग्राम और तेजपात 8-10 पत्ते। सबको पीसकर चूर्ण बना लें। इसमें से आधा चम्मच चूर्ण प्रतिदिन शहद या बकरी/गाय के दूध से सेवन करें।tb treatment in hindi,tb disease in hindi.

2:- करेले का एक चुटकी चूर्ण शहद के साथ चाटने के बाद ऊपर से वासावलेह का सेवन करें।
मुलेठी, मुनक्का, काली मिर्च, बहेड़ा तथा पिप्पली की समान मात्रा लेकर उन्हें कूट-पीसकर चूर्ण बना लें। इसमें से आधा चम्मच चूर्ण शहद के साथ roj सुबह के समय सेवन करें।

3:- जीवंती का चूर्ण शहद के साथ चाटने से हर प्रकार का यक्ष्मा जाता रहता है।

4:- लौनी घी में शहद मिलाकर खाएं तथा ऊपर से दूध पिएं।

5:-अर्जुन की छाल, गुलसकरी तथा कौंच के बीजों को लेकर पीस लें। इसमें थोड़ा-सा घी तथा शहद मिलाकर अवलेह बना लें। Roj आधा चम्मच अवलेह खाकर ऊपर से दूध पिएं।

6:-असगंध तथा पीपल का चूर्ण समान मात्रा में बनाकर एक चुटकी घी या शहद के साथ सुबह-शाम चाटें।

7:- शरीर पर लाक्षादि तेल या चंदनादि तेल की मालिश करें।

8:- स्वर्ण मालती बसंत 125 मि. ग्रा, श्रृंग भस्म 250 मि. ग्रा, अभ्रक भस्म 125 मि. ग्रा, सितोपलादि चूर्ण 1 ग्राम। इनको मिलाकर ऐसी एक मात्रा तीन बार शहद के साथ लें।

9:- द्राक्षासव व वासारिष्ट 10-10 मि. ली. समान मात्रा में जल मिलाकर सुबह-शाम भोजनोपरान्त लें।

10:- चयवनप्राश 10 ग्राम सुबह-शाम दूध से लें।
क्षयगज केसरी या यक्ष्मान्तक लौह में से एक 125 मि.ग्रा. तीन बार shahad से लें।


- निष्कर्ष (Conclusion) -


Umid karta hu apko yah article Pasnd aaya hoga aur tb ke lakshan in hindi kya hote hai tb ka kaise ilaj ya gharelu upay kaise kare iske bare me sari jankari mil gai hogi agar yah article pasnd aaye to ise share kare or comment kar ke bataye ki aapko yah article kesa laga.

"Yah article padne ke liye apka dhanyawad."

Releted tags-tb ke lakshan,tv ke lakshan in hindi,tb ke lakshan in hindi,tb rog ke lakshan,tb ke lakshan hindi me,tb hone ke lakshan,tb ke lakshan aur upay,tb lakshan,टीबी रोग के लक्षण,टीबी के लक्षण,tuberculosis in hindi,tb disease details in hindi,tb treatment in hindi,tb disease in hindi,bone tb symptoms in hindi,tb treatment side effects in hindi,tb symptoms in hindi,brain tb in hindi,टीबी के प्रकार,tb in hindi,टीबी में खानपान,टी बी का उपचार,tb full form in medical,tb ka ilaj,tb ka ilaj in hindi,tb ka ilaj kaise kare,टीवी के लक्षण और उपचार,टीबी की गांठ के लक्षण,गले की टीबी के लक्षण,बोन टीबी के लक्षण,बच्चों में टीबी के लक्षण,दिमाग की टीबी के लक्षण,टी बी का फुल फॉर्म.

Post a Comment

0 Comments

Recommended Posts

Ad Code