Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

देशी घी के जबरदस्त ‌30 फायदे in hindi 2021 | benefits of desi ghee.

देशी घी के जबरदस्त ‌३०‌ फायदे in hindi 2020 | benefits of desi ghee.


Hello dosto aaj main apko ghee se judi sari janki Jaise desi ghee ke fayde or iska sevan kyu karna chaiye or isse kya kya fayde hai yah sab jankari dunga.देसी घी के फायदे

Puri jankari ke is article ko pura aakhri tak pade or yah article pasnd aaye to ise share kare or comment kar ke bataye ki yah jankari kesi lagi.भैंस के देसी घी के फायदे,घी लगाने के फायदे.

Dimag का tension कैसे dur करें? चिंता तनाव कैसे दूर करें?

 - देसी गाय के शुद्ध घी की पहचान |  (Identification of pure ghee of cow)  –

Desi ghee ki pahchan kaise kare?

 (1) असली घी की शुद्धता में मिलावट का शक हो तो सूखी मटकी पर कुछ घी रगड़कर रख दें। यदि कुछ समय पश्चात् वहाँ सफेदी की परत जम जाए तो ऐसी दशा में वह घी नकली होगा।

desi-ghee-ke-fayde


(2) काँच की कटोरी में थोड़ा-सा सरसों का तेल लेकर उसमें थोड़ा-सा देसी घी डाल दें। यदि उस घी में मिलावट होगी तो वह घी तेल के बीच में टंगा हुआ तैरता दिखेगा और घी शुद्ध होगा तो पेंदे में बैठ जायेगा।

* गरम पानी पीने के 20 बेहतरीन फायदे | 2021in hindi.

- Desi घी में कौन सा विटामिन पाया जाता है?(Which vitamin is found in Ghee?)

Ghee me kon sa vitamin paya jata hai?

Desi ghee me bese to bahut se vitamin paye jate hai lekin vitamin A aur E adhik paya jata hai.सुबह खाली पेट देसी घी खाने के फायदे,खाली पेट घी खाने के फायदे.

- Desi घी का सेवन कैसे करना चाहिए? (How should one consume ghee?)

Ghee ka sevan kaise kare?

Desi ghee ka fayde tabi hota hai ghee ka sahi sevan rat ko sone se phle 1 chammch desi  ghee aur todi si kali mirch aur chini milkar khane se ghee ka bahut achha ghee ka fayda hota hai.घी शक्कर खाने के फायदे,भैंस के घी खाने के फायदे.

- देसी घी में कौन कौन से तत्व पाए जाते हैं?(What ingredients are found in desi ghee?)

Ghee me kon se tatv paye jate hai?

1.घी में इसेंशियल एमीनो एसिड्स पाए जाते हैं। यह फैट सेल्स को संकुचित करने का काम करते हैं। ...

2.घी में कॉन्जुगेटेड लिनोलेइक एसिड पाया जाता है। ...

- गैस एसिडिटी के 15 जबरदस्त घरेलू इलाज | acidity problem solution

3.ओमेगा 6 फैटी एसिड लीन बॉडी मास बढ़ाने तथा फैट मास कम करने में भी मदद करता है। ...

4.घी में ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो पाचन दुरुस्त करने तथा सूजन कम करने के काम भी आते हैं।

-Desi घी खाने से क्या फायदा है?? (What is the benefit of eating ghee?)

Ghee khane ke fayde in hindi.

Desi ghee khane se bahut se fayde r labh hote hai ghee se kya kya fayde hote hai aaiye jante hai.दूध में देशी घी मिलाकर पीने के फायदे.

- Desi घी कब खाना चाहिए? (When should one eat ghee?)

Ghee kab khana chahiye?

Ghee ko kab khana chaiye ghee ko roj subhah khali pet khana chaiye khali pet ghee khane se bahut jyada labh hota hai isliye khali pet subhah se khana bahut labhdayak hota hai.

- Desi देसी घी कौन सा अच्छा है? (Which Ghee is Desi Ghee?)

Deshi ghee kon sa sabse achha hai?

1 : घर पर देशी गाय के दूध से बनाया गया गाय का घी (यदि देशी गाय का दूध उपलब्ध हो)

2 : पावापुरी जैन तीर्थ (राजस्थान) जेसी ट्रस्ट द्वारा बनाया गया देशी गाय का घी .

 3 : पथमेड़ा (राजस्थान) जेसी ट्रस्ट द्वारा बनाया गया देशी गाय का घी.

4 : सरस (रानीवाडा व बीकानेर – राजस्थान) जेसी सरकारी सहकारी संस्थाओ द्वारा बनाया गया देशी गाय का घी.

5 : घर पर गाय या भेस के दूध से बनाया गया गाय-भेस मिक्स घी (यदि शुद्ध  दूध उपलब्ध हो)

 6 : अमूल  जेसी सरकारी सहकारी संस्थाओ द्वारा बनाया गया गाय का घी.

देसी-घी-के-फायदे


7 : अमूल व सरस जेसी सरकार से जुडी / मान्यता प्राप्त सहकारी संस्थाओ ( जो कि लगभग हर राज्य में उपलब्ध है) द्वारा बनाया गया गाय-भेस मिक्स  घी.

  8 : पातांजलि व गाय का घी बनाने का दावा करने वाली अन्य कंपनियो का गाय का घी

- Desi घी में क्या क्या पाया जाता है? (What is found in Ghee?)


Desi ghee me vitamin A or E paya jata hai or ghee me fet paya jata hai jo body ke liye bahut faydemand hota hai.

- गाय का desi घी खाने से क्या होता है? (What happens by eating cow's ghee?)

Ghee khane se kya hota hai?

1.गाय के घी का नियमित सेवन करने से एसिडिटी व कब्ज की शिकायत कम हो जाती है।

2. गाय का घी न सिर्फ कैंसर को पैदा होने से रोकता है और इस बीमारी के फैलने को भी आश्चर्यजनक ढंग से रोकता है।

3.जिस व्यक्ति को हार्ट अटैक की तकलीफ है और चिकनाइ खाने की मनाही है, तो गाय का घी खाएं, हार्ट मजबूत होता है।

- देशी घी के फायदे | (Benefits of desi ghee.)

Ghee khane ke fayde

- हवन (havan) –


 कमरे में गोबर का छाणा (कंडा) जलाकर उस पर चौथाई चम्मच चावल एक चम्मच घी में मिलाकर डालें। इसके धुएँ से वातावरण शुद्ध होगा। कमरे में ऑक्सीजन भर जायेगी।desi ghee ke fayde in hindi,desi ghee khane ke fayde.

-  चेहरे के काले दाग  (Black stain) –


 रात को सोते समय घी को चेहरे पर मलने से चेहरे के काले दाग और चोट के दाग मिट जाते हैं।

* Pimples से छुटकारा पाने के 29‌ घरेलू उपाय get rid of pimples

- होंठ फटना  (Lip clenching) – 


घी में जरा-सा नमक मिलाकर होंठों व नाभि पर सुबह व रात को लगाने से होंठ फटना बन्द हो जाते हैं। चेहरे पर दूध की मलाई लगाने से भी लाभ होता है।desi ghee ke fayde hindi me,desi ghee benefits.


desi-ghee-khane-ke-fayde


- नेत्र (eyes) -


ज्योति बढ़ाने हेतु गाय का ताजा घी और मिश्री मिलाकर तीन महीने खायें। घी खाना भी आँखों के लिए उपकारी है।

- अम्लपित्त (Acidity) –


 देशी घी की मालिश दोनों तलवों पर नित्य दस मिनट रात को सोते समय करने से अम्लपित्त में लाभ होता है।

- बाला (bala) –


 50 ग्राम घी गर्म करके नित्य एक बार तीन दिन तक पीने से बाला रोग चला जाता है।

- रक्तार्श  (Blood pressure) –


 एक चम्मच तिल पीसकर एक चम्मच घी में मिलाकर नित्य एक बार खायें।

- बवासीर (रक्तस्रावी) (Piles) – 


घी, तिल और मिश्री – प्रत्येक की एक-एक चम्मच मिलाकर नित्य तीन बार खायें। बवासीर में से रक्त गिरना बन्द हो जायेगा।ghee benefits in hindi,benefits of ghee in hindi.

- सिरदर्द, घने बाल  (Headache,thick hair)–


 (1) प्रतिष्ठित परिवार की एक रोगिणी ने अपना अनुभव बताया कि उसे नित्य रात को जब वह गहरी नींद में सोती रहती थी, अचानक तेज सिरदर्द होता था। इसके लिए उसने कई डॉक्टरों से चिकित्सा कराई, लाभ नहीं हुआ।
cow-ghee-benefits-in-hindi


 बातों ही बातों में सिरदर्द की चर्चा करते समय एक बुजुर्ग ने उससे कहा कि वह रात को सोते समय पैर को तलियों में देशी घी की मालिश करके सोया करे। उसने ऐसा ही किया। चार दिन की मालिश से ही उसका सिरदर्द ठीक हो गया।

 (2) नकसीर आने के कारण सिरदर्द हैं, तो घी की दो बूंदें नित्य रात में सोते समय नाक में डालें। सिर में घी की मालिश करने से बाल काले, घने हो जाते हैं।

* Sir dard ka ilaj ,karan or lakshan सिर दर्द का इलाज, कारण और लक्षण

- आधे सिर में दर्द (Half headache) – 


सिरदर्द सूर्य के साथ घटता-बढ़ता हो तो सुबह-शाम घी सूँघे व तीन बूंद नाक में टपका दें। सिरदर्द गर्मी से हो तो ठण्डा और बादी का हो तो गर्म घी से सिर की मालिश करें। प्रात: सूर्योदय से पहले एक-एक चम्मच घी व मिश्री मिलाकर 4 दिन खायें।

- दाग-धब्बे (stains) – 


चेहरे पर घी की मालिश कुछ दिन करने से झाँइयाँ, दाग-धब्बे हट जाते हैं।

* Pimples से छुटकारा पाने के 29‌ घरेलू उपाय get rid of pimples

- दस्तावर (Aloes) –


 दस्तावर औषधि लेने से पहले यदि तीन दिन तक घी कालीमिर्च के साथ पी लें तो अतेिं मुलायम होकर मल फूल जाता है और दस्तावर औषधि लेने से पेट की सब गन्दगी बाहर निकल जाती है। गर्म दूध और घी मिलाकर पीने से दस्त नरम हो जाता है। यह अर्श में लाभदायक है। कब्ज़ दूर होगी।

- घाव (wound) –


 एक कटोरी में एक चम्मच देशी घी डालकर गर्म करें। इसमें रुई का फोहा पानी में भिगोकर, निचोड़कर डाल दें। फोहे का सारा पानी जल जाने के बाद यह फोहा सहन हो उतना गर्म करके घाव पर रखकर पट्टी बाँध दें। इस तरह नित्य पट्टी बाँधते रहें। घाव भर जायेगा। इससे फोड़े, फुसी भी ठीक हो जायेंगे।

- छाले (Stomatitis) –


 रात को सोते समय छालों पर घी लगाने से लाभ होता है। जलने से हुए छालों, छाले फूटने से हुए घावों पर भी घी लगायें।

- घी खायें – 


घी का सेवन हृदय के लिए हानिकारक है। घी कम मात्रा में खायें तो शरीर के लिए लाभदायक है। घी में विटामिन ‘ए’ की प्रचुर मात्रा होती है। इसलिए घी का सेवन बन्द नहीं करना चाहिए। इसे पचाने के लिए शारीरिक श्रम, व्यायाम, भ्रमण करना चाहिए।घी,Desi ghi.

- नाक, गला और स्मरण (Nose, throat and memory) –


 शक्तिवर्धक-नित्य रात को दो-दो बूंद गुनगुना घी दोनों नाक के नथुनों में डालें तथा भीतर खींच लें। इससे रात्रि भर ऑक्सीजन (प्राणवायु) मस्तिष्क को मिलती रहेगी। इससे हम अपनी मानसिक शक्ति का अधिक उपयोग कर सकेंगे।

 यदेि इस क्रिया को दिन में 3 बार-प्रात:, दोपहर व रात को सोने से पहले दो माह तक करेंगे, तो वह वायु के प्रवाह के बीच आने वाली बाधा दूर करने और अनेक पुराने रोगों को ठीक करने में प्रभावी औषधि का काम करता है।

benefits-of-desi-ghee-hindi


 इसके द्वारा प्रमुख ग्रंथियों, जैसे-तृतीय-नेत्र ग्रंथि, पोष ग्रंथि के माध्यम से कोशाओं का उपस्नेहन (लुब्रिकेशन) होता है और शुष्कता, सूजन, आंतचल (कोएम्युलेशन) रक्तस्राव (हैमरेज) जैसे रोगों का निवारण होता है।desi cow ghee benefits in hindi,ghee in hindi.

 शीत, कोटर-संक्रमण (साइनस इन्फेक्शन) अथवा नासिका-गिल्टी (नेजल पाऑलीपस) आदि वायुमार्ग के खुल जाने से और ग्रसनि-कपाट (फैरेन्जाइल वॉल्व) ढीले होने से निवारण हो जाते हैं, और श्वसन को रोकने वाला श्लथ (फ्लैसिड) दूर हो जाता है। बाल गिरने बन्द हो जाते हैं।

- स्मरण (Remembrance)–


शक्ति के लिए विशेष रूप से बच्चों व विद्यार्थियों के लिए नाभि पर 2 बूँद घी डालें फिर कपड़े की गीली पट्टी और उसके ऊपर सूखे कपड़े की पट्टी रखें। करीब 15-20 मिनट नित्य प्रति करें। इससे पेट की तमाम बीमारियाँ दूर होकर स्मरण-शक्ति बढ़ती है।

- अनिद्रा (Insomnia) –


 रात को नाक के नथुनों में 2-2 बूँद गुनगुना घी डालें और भीतर खींच लें। फिर 2-3 बूँद घी नाभि पर डाल लें फिर तीन-तीन बार क्लॉकवाइज व एन्टी-क्लॉकवाइज अँगुली घुमा लें। साथ ही घी से पाँव के तलवे पर मालिश करें, बहुत अच्छी नींद आएगी। शान्ति व आनन्द का अनुभव होगा। मस्तिष्क निद्रा-प्रेरक हारमोन्स को मुक्त करेगा और चार घण्टे की नींद का काल, 90 मिनट गहरी नींद और हल्की नींद का चक्र बना रहेगा। सामान्य कार्य के लिए इतनी नींद पर्याप्त है।

* अच्छी नींद पाने के घरेलू नुस्खे:-Tips for good sleep

- शक्तिवर्धक (Power enhancer) –


 नित्य दो चम्मच घी इतनी ही पिसी मिश्री में मिलाकर रोटी के साथ दो महीने खाने से कब्ज़ से उत्पन्न दुर्बलता दूर होकर शक्ति बढ़ जाती है। हृदयरोगी और मधुमेह ग्रस्त अपने परहेजों पर विचारकर खायें। सुन्नपन, बेहोशी, जोड़ों का दर्द, गठिया, जलन, सिर के बाल गिरना आदि में घी की मालिश करने से लाभ होता है।

- बाँयटे (Cramps) – 


हाथों, पैरों, पिंडलियों, शरीर के जिस भाग में भी बाँयटे आयें, उसी ओर के हाथ या पैरों की सबसे छोटी अँगुली (कनिष्ठा) और अँगूठे के पास वाली अँगुली (तर्जनी) दोनों को एक साथ हाथ या पैर सीधे रखकर खेंचें। बाँयटे तुरन्त बन्द हो जायेंगे। यदि पैर में बाँयटा आ रहा हो तो उसी पैर की बताई गई दोनों अँगुलियाँ सीधी एक साथ खेंचें और इसी तरह हाथ की। गर्म दूध पियें। बाँयटों से हुए दर्द पर घी की मालिश करें।desi cow ghee benefits in hindi,gee gheewala

- हृदय रोग (heart disease)– 


1.बाईपास सर्जरी से बचने के लिए एवं हृदय रोग में या धमनियों में अवरोधों (Blockage) को दूर करने के लिए गौमूत्र चिकित्सा के साथ पंचगव्य लें और निम्न उपचार 30-40 दिन करें

2. 20 ग्राम काले उड़द की छिलके वाली दाल रात्रि को भिगों दें, फिर सुबह उसमें बीस ग्राम गुग्गुल मिलाकर चटनी के समान पीसें, फिर उसमें एरंडी का 20 ग्राम तेल मिलायें, फिर देशी गौ का ताजा मक्खन 20 ग्राम मिलायें – इस पेस्ट को रात्रि को छाती पर अच्छी तरह लगायें, ऊपर एरंडी का पता बाँधकर रात्रि भर रखें। सुबह उसको साफ करके फिर लेप लगायें और दिन भर रखें। 30-40 दिन में धमनियों का कोलेस्ट्रॉल साफ हो जायेगा। साथ में लौकी का प्रयोग करें।

घुटनों के दर्द का इलाज | ghutno ke dard ka ilaj in hindi

- स्मरण-शक्तिवर्धक (Mnemonic) –


 सिर पर गाय के घी की मालिश करने से स्मरण-शक्ति बढ़ती है सिर के रोग भी दूर होते हैं। नाक में घी की बूंदें भी डालें। तलवों, हाथ-पैरों में जलन हो तो घी मलने से मिट जाती है।desi ghee cholesterol,shudh desi ghee.

- पैरों में जलन (Burning feet)– 


पैरों में घी या मक्खन मल कर आग से तपायें, इससे जलन दूर होगी।

- हिचकी (hiccup) –


 थोड़ा-सा गर्म-गर्म देशी घी पी लेने से हिचकी बन्द हो जाती है। नाभि पर घी गर्म करके लगायें। गर्म दूध जितना पिया जा सके, घी में एक चम्मच मिलाकर पिलायें। हिचकी बन्द हो जायेगी।

- मोटापा घटाना (Weight loss)–


 नित्य प्रात: पैर के तलवों पर घी की मालिश करके दो किलोमीटर घूमें। मोटापा कम होगा।

* Weight Loss: अपनाएं ये 10 तरीके, तेजी से घटेगा वजन, मोटापा होगा दूर, पेट जाएगा अंदर...

- मोटापा बढ़ाना (Weight gain) – 


Ghee और शक्कर मिलाकर खाने से शरीर मोटा हो जाता है।

* How to gain weight :- वजन बढ़ाने के १०बेहतरीन तरीके l

- नकसीर (Hemorrhage) –


 रोगी की गर्दन पीछे झुकाकर लेटा दो और उसके नाक के दोनों नथुनों में पाँच – पाँच बूंद देशी घी की डालकर रोगी को इसे साँस से अन्दर खेचने को कहो। इस तरह घी को सूंघने से नकसीर आना बन्द हो जाता है। यह क्रिया एक सप्ताह करें।

- कैंसर (Cancer)–


 लिनोलैनिक – फैटी एसिड कैंसर को रोकने में सक्षम है जो घी में प्रचुर मात्रा में मिलता है। जो लोग घी नित्य खाते हैं उनको कैंसर से बचाव होता है। दूध में घी मिलाकर पीने से और हलवे में घी मिलाकर खाने से कैंसर में लाभ होता है। शरीर निर्विष रहता है।

- प्रसूता (Maternity) –


 गर्भधारण होने पर नियमित रूप से घी खाते रहने से गर्भस्थ शिशु का पूर्ण रूप से पोषण होता है, प्रसव सरलता से होता है। प्रसव के बाद घी खाने से कमजोरी दूर होती है।

- विष का प्रभाव (Poison effect) –


 जिसने विष खाया हो, जिसे साँप ने काटा हो, जिसे प्लेग हो गया हो, उसे आधा पाव देशी घी, चार बार दूध के साथ या केवल घी पिला देने से सब प्रकार के विष बाहर निकल आते हैं। घी पीने के चार घण्टे बाद तेज गर्म पानी अधिकाधिक पिलायें। इससे उल्टी, दस्त होंगे। आवश्यकता हो तो दूसरे दिन भी पिलायें।

- जलना (To burn) –


 (1) चालीस ग्राम सफेद राल बारीक पीसकर मैदा को चलनी से छानकर भगोने में डालकर गर्म करें। भली प्रकार सिक (Fried) जाये तब ठण्डा पानी डालकर चम्मच से हिलायें। ठण्डी होने पर इसमें मिला हुआ पानी निथारकर फेंक दें एवं सौ ग्राम घी मिलाकर इसे सौ बार पानी से धोयें। इसका लेप जले हुए पर नित्य करें। पट्टी नहीं बाँधे। जला हुआ शीघ्र ठीक हो जायेगा। एक वृद्ध सज्जन ने मेरे सामने इसकी सफलता की बहुत प्रशंसा की है।

 (2) अग्नि से जलने पर घी लगाने से लाभ होता है।

- बिवाइयाँ (Chilblains) – 


देशी घी और नमक मिलाकर बिबाइयों पर लगायें। इससे त्वचा कोमल रहती है। जाड़ों में हाथ-पैर नहीं फटते।

- पित्ती (Urticaria) – 


पित्ती या छपाकी निकलने पर देशी घी और सेंधा नमक को मिलाकर मालिश करें। फिर कम्बल ओढ़कर पसीना लें। पित्ती मिट जायेगी।

शराब का नशा होने पर दो चम्मच घी और इतनी ही चीनी मिलाकर पीने से नशा उतर जाता है।

नाभि पकने पर घी गर्म करके नाभि पर लगायें।

नाक में खुश्की तथा नथुनों पर पपड़ी जमने पर घी सूंघने और रूमाल पानी में भिगोकर सिर पर रखने से लाभ होता है।

- खाँसी, गला बैठना (Cough, sore throat) 

घी एक चम्मच, मिश्री एक चम्मच और 15 काली मिर्चे मिलाकर सुबह-शाम चाटने से गला बैठना और सूखी खाँसी ठीक हो जाती है। इसे चाटने के बाद कुछ घण्टे पानी न पियें। घी, कालीमिर्च गर्म कर ठण्डी करके खाने से भी लाभ होता है।

- खाँसी (cough)– 


125 ग्राम दूध में एक चम्मच घी और एक कप पानी मिलाकर उबालें। उबालते-उबालते आधा भाग रहने पर स्वादानुसार मिश्री मिलाकर बच्चों को यह दूध नित्य चार बार पिलायें। खाँसी ठीक हो जायेगी।

* Khansi ka ilaj,kaaran or lakshan खाँसी का इलाज, कारण और लक्षण

- पुरानी खाँसी (chronic cough) –


 देशी घी और गुड़ आग पर गर्म करें, पिघलने पर खिलायें। छाती पर घी और सेंधा नमक मिलाकर मालिश करें। इससे पुरानी खाँसी ठीक हो जाती है।cow ghee benefits in hindi,desi ghee benefits in hindi.

क्षय रोग में मक्खन, मिश्री मिलाकर खाने से क्षय रोग का नाश होकर बल मिलता है।

- फफोला (Blister)– 


मकड़ी मूतने से फफोले हो जाते हैं। इन पर घी और नमक मिलाकर लगाने से लाभ होता है।

आमवात में पीड़ित स्थान पर घी में सेंधा नमक मिलाकर मालिश करें, सूजन व दर्द में आराम मिलेगा। असगंध के पत्ते या धतूरे के पत्ते पर घी लगाकर गर्म करके बाँधने से शीघ्र लाभ होता है।

- निमोनिया (Pneumonia) – 


निमोनिया पीड़ित बच्चे के कमरे में चौबीस घण्टे घी का मोटी बत्ती का दिया जलाने से और उसी कमरे में पीड़ित बच्चे को रखने से निमोनिया ठीक हो जाता है।ghee in nose,disadvantages of ghee.

- जुकाम (cold) –


 विशेष रूप से बहने वाला व जुकाम के कारण सिरदर्द आदि में थोड़ा-सा घी गुनगुना करें। गुनगुने घी को अँगुली में लगाकर नाक के दोनों नथुनों में लगायें, एक-एक बूंद घी डालें और घी को ऊपर खींचें। तुरन्त आराम मिलना शुरू हो जायेगा। इस क्रिया को लगभग 10 मिनट बाद, फिर एक घण्टे बाद और आवश्यकतानुसार करते रहें, जुकाम जल्दी पककर ठीक हो जाता है।benefits of desi ghee,ghee ke fayde.


* Jukam ka gharelu ilaj जुकाम के उपाय कारण,लक्षण

- टी.बी. (T.V)–


 50 ग्राम मिश्री और 10 ग्राम पीपल पीसकर 250 ग्राम दूध में 250 ग्राम पानी मिलाकर उबालें, जब मिलाया हुआ पानी जल जाए और मात्र दूध ही बचे तब उसमें दो चम्मच घी और चार चम्मच शहद घोल लें और फिर दूध में मिलाकर इतना फेंटें कि दूध का झाग पैदा हो जाये। इसको चूसते रहें। अगर फेफड़ों में छेद व घाव भी हो गए हों तो वे भी भर जायेंगे।

Roj खाली pet 2 काजू khane के बेहतरीन fayde हिंदी में

Me aasha karta hu ki apko yah article se ghee se judi sari jankari or desi ghee ke fayde ke bare me sari jankari mil gai hogi agar yah article se apko pasand aaya ho to ise share kare or comment kar ke bataye ki apko desi ghee ke fayde ki jankari kaise lagi.



Related tags-desi ghee ke fayde,देसी घी के फायदे,desi ghee ke fayde in hindi,desi ghee khane ke fayde,desi ghee ke fayde hindi me,desi ghee benefits,benefits of desi ghee,ghee ke fayde,ghee in nose,disadvantages of ghee,cow ghee benefits in hindi,desi ghee benefits in hindi,ghee benefits in hindi,benefits of ghee in hindi,घी,Desi ghi,desi cow ghee benefits in hindi,ghee in hindi,desi cow ghee benefits in hindi,करता है,gee gheewala,desi ghee cholesterol,shudh desi ghee,Karta,घी का सेवन कैसे करना चाहिए?,घी में क्या क्या पाया जाता है?,देसी घी में कौन कौन से तत्व पाए जाते हैं?,घी में कौन कौन से तत्व पाए जाते हैं?,घी खाने से क्या फायदा?,घी में कौन सा विटामिन पाया जाता है?,देसी घी कौन सा अच्छा है?,भैंस के देसी घी के फायदे,घी लगाने के फायदे,घी शक्कर खाने के फायदे,भैंस के घी खाने के फायदे,सुबह खाली पेट देसी घी खाने के फायदे,खाली पेट घी खाने के फायदे,दूध में देशी घी मिलाकर पीने के फायदे,

Post a Comment

0 Comments

Recommended Posts

Ad Code