जनिये: कमर मैं दर्द क्यो होता हैं इसके लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार - Only Health Fitness

Breaking

Tuesday, 31 March 2020

जनिये: कमर मैं दर्द क्यो होता हैं इसके लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार

जनिये कमर मैं दर्द क्यो होता हैं इसके लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार – Back Pain Symptoms and Home Remedies in Hindi


कमर और पीठ में दर्द क्यों होता है?



कमर दर्द से परेशान हर 10 में से 1 व्यक्ति को गंभीर समस्या होती है और 100 में से एक व्यक्ति को सर्जरी की जरूरत पड़ती है।

 हर 10 में से 6 लोग कमर और पीठ के दर्द से जूझते हैं। कुछ ये मानते हैं कि मैं काफी एक्टिव रहता है हूं, बॉडी पॉश्चर में गड़बड़ी नहीं है फिर ये ऐसा क्यों होता है। विशेषज्ञों के अनुसार कमर और पीठ में होने वाले दर्द का कारण एक नहीं है। 
कमर-दर्द,पीठ-दर्द,Pain-back
कमर-दर्द
कई बार ठंड, सर्दी-जुकाम के बाद भी ऐसा हो सकता है। कई मामलों में लोग इस दर्द की अनदेखी करते हैं इस कारण ये और भी बढ़ता है। जानते हैं ये कब, क्यों और कैसे होता है?

1.कैसे होती है दर्द की शुरुआत?


उम्र बढ़ने के कारण डिस्क में पानी कम होता जाता है इस कारण कमर और पीठ का लचीलापन खत्म हो जाता है। ऐसी स्थिति में डिस्क की नसों पर दबाव पड़ना शुरू हो जाता है।
 इससे पैरों में दर्द, अकड़न की समस्या शुरू होती है। वहीं कमर और पीठ के दर्द का मुख्य कारण ह​ड्डी में होने वाला संक्रमण है।

* गरम पानी पीने के 20 बेहतरीन फायदे | 2020 in hindi.

 इसके अलावा डिस्क में भी बैक्टीरियल इंफेक्शन होने पर दर्द होता है। रीढ़ की हड्डी का ट्यूमर भी दर्द का कारण बनता है। इसलिए इलाज से पहले दर्द के कारण का पता लगाया जाना जरूरी है।

2.इसके कारण क्या हो सकते हैं?


इसके कारण कई हैं जैसे ऊंची एड़ी के जूते-चप्पलों का अधिक इस्तेमाल, तनाव, लगातार झुककर बैठना, रोजाना देर तक गाड़ी चलाना, दफ्तर में झुककर काम करना और काफी देर तक कम्प्यूटर पर काम करना।
 ऐसी स्थिति में रीढ़ की हड्डी पर अधिक दबाव पड़ता है और जो दर्द के रूप में सामने आता है। इसके अलावा गलत तरीके से उठना, बैठना, चलना-फिरना, टीबी, एंकाइलोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस, आॅस्टियोपोरोसिस और डेली रूटीन(daily routine) मे व्यायाम न करना भी इसकी वजह हैं।

पीट-दर्द,pain,kamar dard, waist pain
Kamar dard


कमर में दर्द होने पर चलना तो दूर आप बामुश्किल हिल पाते हैं। ऐसे में आपको कई तकलीफों का सामना करना पड़ता है। लेकिन योग के कुछ आसन कमर दर्द में राहत पहुंचाने का काम करते हैं।

लोग अक्‍सर कमर दर्द से परेशान रहते हैं। इस दर्द के कई कारण हो सकते हैं। इनमें सबसे प्रमुख है रीढ़ की हड्डी में परेशानी। इसके  चलते कई अन्य दिक्कतें भी हो सकती हैं। इनमें चिड़चिड़ापन, थकान, उच्च रक्तचाप, चिंता, गुस्सा, मूत्र संबंधी परेशानियां, श्वेत प्रदर, सिर दर्द और चेहरे पर निर्जीवता आदि प्रमुख हैं।

- कमर दर्द का तेल कैसे बनाएं?(How to make back pain oil?)


एक-एक चम्मच  नारियल, सरसों और तिल का तेल लें और इसमें 8 से 9 कली लहसुन को mila de हल्की आंच में गुनगुना कर लें। asa karne ke bad apka tel ban jayega aur aap laga sakte hai.

- दूध पीने के जबरदस्त 38 फायदे 2020 in hindi.

- कमर दर्द में कौन सा तेल लगाएं?(Which oil should be applied in back pain?)


 कमर दर्द का  कारण कब्ज माना  है, इसलिए कब्ज होने par अरंडी के तेल का todi मात्रा में सेवन karna चाहिए

- कमर दर्द में क्या खाए?(What to eat in back pain?)


 Shardi ke karan kamar dard ho raha hai to एक सूखी अंजीर,एक सूखी खुबानी और पांच सूखे आलू ko garm kare aur sone se phle khaye kamar dard tik ho jayega.

- कमर दर्द के लक्षण क्या है?(What are the symptoms of back pain?)


कमर दर्द के लक्षण(Symptoms of back pain)

Kamar me dard hona dard hamesh bane rahna jyda der bethe rahne se khade hone par dard hona ya khade rahna jyada der tak or dard hona yahi kamar dard ke lakshan hai


- कमर दर्द में कौन सी एक्सरसाइज करनी चाहिए?(What exercises to do in back pain?)


1- कैट एंड कैमल स्ट्रेच (Cat and Camel Stretch)

2- ब्रिज पोज (Bridge pose)

3- सुपिन स्पाइनल ट्विस्ट (Supine spinal twist)

4- कोबरा पोज (Cobra pose)

5- साइड बेंडिंग पोज (Side bending pose)

- Gajar ke बेहतरीन 13 fayde in hindi 2020

- पीठ में दर्द के क्या कारण हो सकते हैं?(What can be the reasons for backache?)


Pit dard hone ke bahut se karan ho sakte hai agar koi jyada bhari saman uthte hai to pet dard ho sakta hai ya pet me chot lagne par pit dard hoti hai.ek hi jagah par jyada der tak bethe rahne se pit dard ho sakte hai.

कमर दर्द का उपचार


असल में रीढ़ वह खंभा है, जिस पर शरीर रूपी इमारत टिकी है। इसे दुरुस्त रखना बहुत मुश्किल बात नहीं है।

 योग की कुछ क्रियाएं रीढ़ को लचीली और स्वस्थ बनाए रखने के लिए पर्याप्त हैं। इन क्रियाओं से पहले कुछ बातों का ध्यान अवश्य रखें:

1. यह क्रियाएं नियमित रूप से करें।

2. प्रयास करें कि साधना ब्रह्म मुहूर्त में खाली पेट करें।

3. जल्दबाजी न करें। भले ही कम करें, पर सुकून से करें।

4. यदि आपकी समस्या पुरानी है तो विशेषज्ञ से मिलकर साधना करें।

१.तानासन


जमीन पर आसन बिछाएं व कमर के बल उस पर लेट जाएं।
 एड़ी-पंजे मिले रहें व हथेलियां जमीन पर जंघाओं की बगल में टिकी रहें। श्वास भरते हुए हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं और हथेलियां आपस में जोड़ लें।
Pith-dard-ka-upay

पूरे शरीर में खिंचाव महसूस करें। कमर से ऊपर का भाग ऊपर की ओर खींचें व नीचे का नीचे की ओर।
 फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए हाथों को वापस ले आएं।
कटि चक्रासन

१.पहली स्थिति


जमीन पर लेट जाएं व घुटनों को मोड़ते हुए एड़ी को हिप्स से छू दें।
 हथेलियां सिर के नीचे रखें व कोहनियां जमीन से चिपकी हुई।
सांस भरते हुए घुटनों को दाई ओर जमीन से छुएं व चेहरा बाई ओर खींचें, पर कोहनियां जमीन पर रहें।
सांस छोड़ते हुए वापस आएं व बाई ओर दोहराएं।

२.दूसरी स्थिति


जमीन पर लेटे रहें। दाएं पैर के तलवे को बाई जंघा पर चिपका लें व बायां पैर सीधा रखें और दायां घुटना जमीन पर, हथेलियां सिर के नीचे।
 सांस भरते हुए मुड़ जाएं, पर दाई कोहनी जमीन से चिपकी रहे।
जब तक संभव हो, रुकें व सांस छोड़ते हुए वापस दाएं घुटने को दाई ओर जमीन से छू दें।
दस बार दोहराएं, फिर बाएं पैर से 10 बार दोहराएं।

३.सर्पासन


पेट के बल लेट जाएं। पैरों को पीछे की ओर खींचें व एड़ी-पंजे मिलाए रखें। सांप की पूंछ की तरह।
हथेलियों व कोहनियों को पसलियों के पास लाएं। ऐसे कि हथेलियां कंधों के नीचे आ जाएं और सिर जमीन को छुए।
Waist-pain,Pit-dard,Lower-back-pain,कमर-दर्द,पीठ-दर्द,पीट-दर्द
Pain

आंखें बंद रखें। चेहरा व सीना ऊंचा उठाएं, कमर के वजन पर सांप की तरह। इस स्थिति में जब तक हो सके, बनी रहें।

फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए जमीन पर वापस आ जाएं। विश्राम करें, हथेलियां सिर के नीचे टिका दें।

४.पवन मुक्तासन


कमर के बल लेटें। दाएं घुटने को हाथों से पकड़ कर जंघा को पेट पर दबाते, सांस छोड़ते हुए घुटने को सीने के पास ले आएं।
ठोड़ी को घुटने से छूने का प्रयास करें। बायां पैर जमीन पर सीधा टिका रहे। श्वास भरते हुए पैर व सिर को वापस जमीन पर लाएं।
 ऐसे ही बाएं पैर से करें व फिर दोनों पैरों से। इसे पांच बार दोहराएं।
यह क्रियाएं रीढ़ की हड्डी को लचीला व मजबूत बनाएंगी।

                            धन्यवाद

                       👇🏻इसे भी पढ़ें👇🏻

१.सलाद खाने से होते हैं जबरदस्त 8 फायदे....

२.Weight Loss: अपनाएं ये 6 तरीके, तेजी से घटेगा वजन, मोटापा होगा दूर, पेट जाएगा अंदर...

३.Corona virus:- कोरोना वायरस लक्षण, पहचान, बचाव

४.How to gain weight :- वजन बढ़ाने के १०बेहतरीन तरीके l

५.अच्छी नींद पाने के  घरेलू नुस्खे:-Tips for good sleep

६.Pimples से छुटकारा पाने के 29‌ घरेलू उपाय get rid of pimples


Related tags-kamar dard,kamar dard ka ilaj,kamar dard ka ilaj in hindi,kamar dard ki exercise,kamar dard,कमर दर्द के कारण,कमर दर्द का कारण,kamar ka dard,kamar dard ke karan,kamar dard ka karan,kamar dard in hindi,kamar,kamar pain,तेज कमर दर्द,कमर के निचले हिस्से में दर्द,kamar dard ka ilaj hindi me,kamar dard ka ilaj kya hai,कमर दर्द के उपाय,kamar dard ka upchar,kamar mein dard,back pain belt,baba ramdev yoga for back pain,homeopathy for back pain,homeopathy medicine for back pain.

No comments:

Post a comment

Please do not enter any spam link in the comment box